कुंभ कोविड टेस्ट फर्जीवाड़ा- एसआईटी जांच के घेरे में हरिद्वार सीएमओ

देहरादून/हरिद्वार. उत्तराखंड में कुंभ मेले के दौरान कथित तौर पर कोविड टेस्ट फर्ज़ीवाड़े के मामले में जांच लगातार आगे बढ़ रही है. जांच एजेंसी स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम की मानें तो अब इस मामले में हरिद्वार के मुख्य चिकित्सा अधिकारी यानी सीएमओ डॉ. एसके झा की भूमिका भी जांच के दायरे में आ गई है. रिपोर्ट्स की मानें तो कुंभ के दौरान कोविड जांच के लिए जिन एजेंसियों के साथ अनुबंध किया गया था, उन्होंने झा की निगरानी में ही टेस्ट किए थे और अब झा का इस पूरे मामले में क्या रोल रहा, इस संबंध में एसआईटी की टीम हर पहलू खोज रही है, जबकि झा इस मामले में शिकायतकर्ता रहे हैं.

एसआईटी के अधिकारी राकेश रावत ने कहा, ‘हमने अब तक किसी को क्लीन चिट नहीं दी है और मामले में शामिल हर व्यक्ति से पूछताछ की जा रही है.’ रावत के हवाले से टीओआई की रिपोर्ट में इस बात के साथ ही झा का वक्तव्य भी शामिल किया गया है. झा ने स्वीकार किया है कि एसआईटी उन्हें भी जांच के घेरे में ले चुकी है. झा ने कहा, ‘मुझसे पूछताछ ज़रूर की गई है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मैं आरोपी हूंं. मैं इस मामले में बेदाग हूं.’ मामले के मुताबिक हरियाणा की डेल्फिया लैब के साथ मिलकर नलवा पैथ लैब ने करीब 1 लाख कोविड टेस्ट कुंभ के दौरान किए थे. पिछले दिनों जांच के दौरान नलवा लैब ने कुछ दस्तावेज़ प्रस्तुत किए, जिनसे सीएमओ की भूमिका को लेकर सवाल खड़े हुए थे. रिपोर्ट के मुताबिक डेल्फिया लैब को पिछले साल रुद्रप्रयाग ज़िले में केदारनाथ में मुफ्त फर्स्ट एड किट बांटने के लिए अनुबंधित किया गया था, तब ज़िले के सीएमओ झा ही थे. एक जांच अधिकारी ने कहा, ‘केदारनाथ और कुंभ में एक ही लैब को काम मिलना और दोनों ही जगह वरिष्ठ अधिकारी का एक ही होना, नज़रअंदाज़ किया जाने वाला संयोग नहीं है. इस संदर्भ में जांच की जा रही है.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *